शंखनाद INDIA/
पेट्रोल-डीजल की कीमत में बढ़ोतरी से मंहगाई बढे़गी, जिससे देश का विकास सीधे प्रभावित होगा।पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर लगाम के तरीके पर सरकारों की चुप्पी से स्पष्ट है कि फिलहाल इन पर टैक्स कटौती की कोई कवायद नहीं होगी। केन्द्र सरकार ने यह संकेत भी दे दिया है। कि राहत चाहिए तो वैकल्पिक ईंधन चुनने होंगे।

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों के बारे में पूछें जाने पर देश को वैकल्पिक ईधन अपनाने की सलाह दी। गडकरी ने कहा कि वह पहले से ही बिजली को ईंधन के रूप में अपनाने की बात कर रहे हैं, क्योंकि देश में बिजली की आपूर्ति उसकी मांग से अधिक है। उनका मंत्रालय हाइड्रोजन बैट्री भी विकसित कर रहा है। यह और बात है कि इलेक्ट्रिक वाहन की      कीमत आम भारतीय ग्राहक की पहुंच से बाहर है और फिलहाल उसमें कमी के संकेत नहीं है।
देश की वर्तमान बिजली उत्पादन क्षमता 3.75 लाख मेगावाट है। लेकिन कीमत एवं चार्जिंग इन्फ्रा के अभाव के चलते आम ग्राहक इलेक्ट्रिक वाहन की ओर आकर्षित नहीं हो रहे है। देश के कुल वाहनों में इलेक्ट्रिक वाहनों की हिस्सेदारी दो फिसदी भी नहीं हो पाई है।

Share and Enjoy !

Shares
  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    × हमारे साथ Whatsapp पर जुड़ें