शंखनाद/INDIA/बी.तिवारी/पिथौरागढ़- शनिवार को जनपद भ्रमण पर पंहुचे प्रदेश के पर्यटन व सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने मुख्यालय स्थित लंदन फोर्ट में सिंचाई विभाग द्वारा बनाई जाने वाली कुल 799.31 लाख की लागत की दो योजनाओं का शिलान्यास किया, जिसमें विकास खंड धारचूला में काली नदी के दाएं ओर स्थित कुमाऊं स्काउट मल्ला हाट की सुरक्षा हेतु 447.38 लाख की लागत से निर्मित बाढ़ सुरक्षा योजना का शिलान्यास एवं डीडीहाट विकासखण्ड अंतर्गत राम गंगा नदी किनारे बाएं ओर थल कस्बे की सुरक्षा हेतु 351.93 लाख से होने वाले बाढ़ सुरक्षा कार्य का शिलान्यास किया गया।

शिलान्यास समारोह में उपस्थित स्थानीय जनप्रतिनिधियों,जनता एवं विभागीय अधिकारियों को संबोधित करते हुए प्रदेश के पर्यटन, सिंचाई एवं संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि जल के संवर्धन एवं संरक्षण हेतु सिंचाई विभाग अन्य जनपदों के अलावा यहां भी जलाशयों का निर्माण करने के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल आपूर्ति सुनिश्चित करने की दिशा में भी कार्य कर रहा है।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि राज्य में पर्यटन को बढावा देने के लिए अनेक योजनांए गतिमान हैं। उन्होंने कहा 13 जनपदों में थीम बेस्ड नए गंतव्य स्थल विकसित किए जाने हेतु 13 डेस्टिनेशन येाजना के अंतर्गत मोस्टामानो क्षेत्र (पिथौरागढ़) में ट्यूलिप फ्लावर के प्रयोग के तौर पर 25000 बल्ब लगाकर ट्यूलिप गार्डन विकसित करने का कार्य किया जा रहा है। जिसके काफी उत्साहजनक परिणाम भी प्राप्त हो रहे हैं।

महाराज ने कहा कि प्रदेश में पर्यटन गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक जनपद में वहां के पौराणिक धर्म स्थलों को चिन्हित कर एक सर्किट के तहत शामिल करने की योजना पर कार्य चल रहा है। इसी योजना के तहत शिव सर्किट के अंतर्गत गंगोलीहाट के पाताल भुवनेश्वर, पांखू के पिंगलीनाग और बेरीनाग के बैडीनाग मंदिर को नागराजा एवं गोलज्यू मंदिर सर्किट, कोटली (गंगोलीहाट) विष्णु मंदिर को विष्णु, राम एवं नरसिंह मंदिर सर्किट में शामिल किया गया है।

संस्कृति मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि कोरोना काल के दौरान आर्थिक रूप से जूझ रहे प्रदेश के 2317 लोक कलाकारों एवं ढोल दमाऊ वादों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के उनके मानदेय में भी दोगुनी वृद्धि की गई है। उन्होंने बताया कि पहले दलनायक को 500 रूपये मानदेय और 250 रूपये यात्रा भत्ता दिया जाता था। जिसे बढ़ाकर मानदेय अब 1000 रूपये और यात्रा भत्ता 500 रूपये कर दिया गया है। इसी प्रकार लोक कलाकारों का मानदेय 400 से बढ़ाकर 800 रूपये और यात्रा भत्ता 200 रूपये से बढ़ाकर 400 रूपये कर दिया गया है।

महाराज ने बताया कि ऐसे लोक कलाकार जो कि वृद्ध एवं विपन्न हैं और 60 वर्ष की आयु पूर्ण कर चुके हैं उनके लिए राज्य सरकार द्वारा 3000 रूपये पेंशन भी दी जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के ढोल वादकों को अंतरराष्ट्रीय पहचान दिलाने के लिए एक ऐसा आयोजन करने की योजना बना रहे हैं जिसे कि गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकाॅर्ड में दर्ज किया जा सके। अपने भ्रमण के दौरान माननीय पर्यटन मंत्री ने कहा कि अधिकारी पूर्ण संजीदा से कार्य कर जनता तक सरकार की योजनाओं का लाभ पंहुचाएँ। अधिकारी प्रत्येक आने वाले व्यक्ति का फोन अवश्य ही रिसीव करें।

Share and Enjoy !

Shares
  • Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    × हमारे साथ Whatsapp पर जुड़ें